किसानों के साथ आगे आया पूरा देश, बढ़ सकती है मोदी सरकार की मुश्किलें

नए कृषि कानून को वापस लेने की मांग पर डटें किसानों के साथ अब कई राजनीतिक दलों का भी समर्थन प्राप्त हो चुका है| कानून को लेकर किसान 11 दिन से लगातार दिल्ली से सटे सभी बॉर्डर पर आन्दोलन कर रहे हैं| किसानों की प्रमुख मांग है कि कृषि को लेकर केंद्र सरकार की तरफ से बनाए गए तीनों कानून को तत्काल रद्द किया जाए|

किसान आन्दोलन और भारत बंद के समर्थक में जय किसान आन्दोलन के संस्थापक योगेंद्र यादव ने कहा कि कृषि कानून को लेकर शुरू हुए किसानों का आन्दोलन केवल इन कानून को रद्द करने से ही ख़त्म किया जा सकता है| अब यह सिर्फ एक राज्य के किसानों का आन्दोलन नहीं है बल्कि पूरे देश के किसानों का आन्दोलन है| बेहतर होगा की सरकार किसानों की बारत को मान ले|

वहीं दूसरी तरफ केंद्र सरकार के नए कृषि कानून और किसान आन्दोलन के समर्थन में पंजाब के केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेताओं के बहिष्कार का सिलसिला शुरू हो चुका है| कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों ने केंद्रीय मंत्री व भाजपा नेता सोम प्रकाश के सामाजिक बहिष्कार का एलान किया है|

इतना ही नहीं सरकार के इस काले किसान विरोधी कानून का अमेरिका-ब्रिटेन में भी जमकर प्रदर्शन हुआ| प्रदर्शन कर रहे गुरिंदर सिंह खालसा ने कहा, किसान देश की आत्मा है, हमें अपनी आत्मा की रक्षा करनी होगी|

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और कांग्रेस सचिव अनिल यादव ने किसानों के आदोलन के समर्थन में सभी जिला व शहर कमेटियों को धरना-प्रदर्शन करने के दिशा-निर्देश दिए हैं|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here