किसान आंदोलन के बीच सीएम खट्टर का बयान- राजस्थान के बाजरे को हरियाणा में नहीं बिकने दूंगा

मोदी सरकार के काले कानून को लेकर किसानों का आंदोलन लगातार जारी है। किसानों ने बातचीत में बताया की जबतक सरकार हमारी मांगों को पूरा नहीं करती और इस काले कानून को नहीं हटाती तबतक हम पीछे नहीं हटेंगे। हम अपने साथ 6 माग से ज्यादा का राशन साथ लेकर निकले हैं।

वहीं आंदोलन के बीच हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने ट्वीट कर किसानों को लेकर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि “हरियाणा सरकार बाजरे की फसल का दाना-दाना खरीदने के लिए संकल्पबद्ध है। पिछले वर्ष हरियाणा में 3 लाख मीट्रिक टन बाजरे की खरीद सरकारी एजेंसियों द्वारा की गई थी। इस बार अब तक 7 लाख मीट्रिक टन बाजरे की खरीद की जा चुकी है”

खट्टर ने अगले ट्वीट में लिखा कि, “हरियाणा की अनाज मंडियों में बाजरा ₹2,150/ क्विंटल की दर से खरीदा जा रहा है, जबकि पड़ोसी राज्य राजस्थान में ₹1300 के भाव पर बाजरा बिक रहा है। इसलिए वहां से बाजरा लाकर हरियाणा में बेचने की शिकायतें मिल रही हैं। वहां का बाजरा यहां बिकने नहीं दिया जाएगा”

वहीं नए कृषि कानून को लेकर प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर हमला किया कहा

“नाम किसान कानून लेकिन सारा फायदा अरबपति मित्रों का”

किसान कानून बिना किसानों से बात किये कैसे बन सकते हैं?

उनमें किसानों के हितों की अनदेखी कैसे की जा सकती है?

सरकार को किसानों की बात सुननी होगी। आइए मिलकर किसानों के समर्थन में आवाज़ उठाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here