कृषि कानून पर प्रियंका गांधी, राहुल का हमला, अखिलेश ने भी किया समर्थन

11 दिन से लगातार आन्दोलन कर रहे किसानों ने 8 नवंबर को भारत बंद का एलान किया है| किसानों और सरकार के बीच 5 बार की बैठक  के दौरान हुई बातचीत के बाद भी कोई साफ निर्णय नहीं निकल पाया है| जिसके बाद किसानों ने

दरअसल किसानों की मांग है कि केंद्र सरकार की तरफ से बनाये गये तीनों कृषि कानून को सरकार वापस ले| वहीं सरकार ने भी ये स्पष्ट किया है की कानून को लेकर न ही कोई बदलाव किया जायेगा न ही कानून वापस लिया जायेगा|

किसानों के आन्दोलन के समर्थन में अब कई राजनीतिक पार्टियों ने भी खुलकर कृषि कानून का विरोध किया है| किसान के भारत बंद का हिस्सा बनते हुए सियासी दलों ने ये स्पष्ट किया है|

वहीं किसानों के आन्दोलन को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा

भाजपा सरकार के पास

20,000 करोड़ का नया संसद कॉरिडोर बनाने

16,000 करोड़ का पीएम के लिए स्पेशल जहाज खरीदने का पैसा है।

लेकिन यूपी के गन्ना किसानों को 14000 करोड़ भुगतान कराने का पैसा नहीं है। 2017 से गन्ने का मूल्य नहीं बढ़ा है।

ये सरकार केवल अरबपतियों के बारे में सोचती है

दूसरी तरफ किसान आन्दोलन और नए कृषि कानून पर सरकार पर सवाल करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा

‘अदानी-अंबानी कृषि क़ानून’ रद्द करने होंगे।

और कुछ भी मंज़ूर नहीं!

वहीं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी किसान बिल का विरोध करते हुए ट्वीट में लिखा कि

क़दम-क़दम बढ़ाए जा, दंभ का सर झुकाए जा

ये जंग है ज़मीन की, अपनी जान भी लगाए जा

‘किसान-यात्रा’ में शामिल हों!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here