ब्रिटिश में भी दिखा किसान आन्दोलन का वर्चस्व, कई लोगों पर हुआ केस दर्ज

किसान आन्दोलन की हवा अब ब्रिटेन में भी चल चुकी है| ब्रिटेन के मध्य लंदन में भारत में तीन कृषि कानूनों के खिलाफ भारतीय उच्चायोग के बहार प्रदर्शन कर रहे लोगों को स्कॉटलैंड पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया|

किसानों के लिए प्रदर्शन कर रहे लोगों को वहां के पुलिस कर्मियों ने चेताया था कि कोरोना वायरस से बचाओ के लिए कड़े नियम कानून बनाये गए हैं जिसके तहत 30 से ज्यादा लोगों के जमा होने पर गिरफ्तार किया जा सकता है साथ ही जुर्माना भी लगाया जा सकता है|

मेट्रो पोलिटन पुलिस के कमांडर पॉल ब्रोगडेन ने लोगों से प्रदेर्शन में शामिल न होने की अपील की थी| ज्यादातर प्रदर्शनकारी ब्रिटिश सिख थे जो की किसान समर्थन का पोस्टर पकड़े थे जिसपर किसान की मांगों जैसे शब्द लिखे हुए थें|

भारतीय उच्चायोग ने आन्दोलन पर कहा कि प्रदर्शन भारत का अतिरिक्त मामला है भारत सरकार किसानों से बात कर रही है|

बता दें कि ये वृद्ध प्रदर्शन ब्रिटिश सिख लेबर सांसद तनमनजीत सिंह धेसी के कई दलों के 36 ब्रिटिश सांसदों के एक समूह द्वारा विदेश मंत्री डॉमिनिक राब को पत्र लिखने के बाद हुआ था| उन्होंने कहा था कि किसान आन्दोलन का ब्रिटिश पंजाबी लोगों के ऊपर प्रभाव को लेकर वह अपने भारतीय समकक्ष एस. जयशंकर को अवगत कराएं|

विदेश, राष्ट्रमंडल और विकास कार्यालय(एफसीडीओ) ने कहा कि उसे अभी तक पत्र नहीं मिला है यह मामला भारत का एक आतंरिक मुद्दा है| एफसीडीओ के प्रवक्ता ने कहा कि विरोध प्रदर्शन को संभालने का पुलिस का तरीका भारत का आतंरिक मामला है|

ब्रिटेन में भारतीय दूतावास ने कहा है कि उसने भारत सरकार द्वारा लाए गए ऐतिहासिक कृषि सुधार कानूनों की मूलभूत विशेषताओं के बारे में ब्रिटिश सरकार और संसद में प्रासंगिक वार्ताकारों को विस्तार से बताया है|

बता दें हरियाणा, पंजाब, राजस्थान समेत कई राज्यों के किसानों ने केंद्र सरकार की ओर से लाए गये नए कृषि कानून को लेकर विरोध जताते हुए 26 नवंबर को दिल्ली कूच का एलान किया था|

सरकार और किसानों के बीच में कई बार की वार्ता के बाद भी इसका समाधान नहीं निकल पा रहा है| किसानों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का एलान किया है| किसानों की मांग है की सरकार किसान विरोधी काले कानून को वापस ले|सरकार को चेताते हुए किसानों ने बताया की जबतक हमारी मांगे पूरी नहीं हो जाती तबतक हम यहां से हटेंगे नहीं|

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here