यूपी में महिला सुरक्षा बदहाल, लगातार बढ़ रहा महिला अपराध का ग्राफ

केंद्र सरकार की तरफ से सेफ सिटी परियोजना के तहत महिला सुरक्षा पर उत्तर प्रदेश को सराहने योग्य बताया है| इसकी जानकारी देते हुए अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा सेफ सिटी परियोजना के तहत महिलाओं की सुरक्षा को और सशक्त बनाया जा रहा है| परियोजना के तहत लगाए जाने वाले उपकरणों व अन्य संसाधनों की स्थापना के कार्य अबतक हुई प्रगति की केंद्र सरकार ने सराहना की है|

अब सवाल ये उठता है की केंद्र सरकार की ओर से सेफ सिटी परियोजना पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की पीठ तो थप थापा दी गई पर क्या असल में महिला सुरक्षा को लेकर यूपी सुरक्षित है?

ऐसी ही कुछ अपराध की घटनाएं है जो सरकार के सेफ सिटी परियोजनाओं की पोल खोलती दिखाई पड़ती हैं-

जहां देवरिया के तरकुलवा क्षेत्र में मेड के विवाद को लेकर सरेआम पंचायत के बीच युवती की चाकू घोंपकर हत्या कर दी गई| चाकू लगने से युवती के पिता भी गंभीर घायल हो गये|

वहीं दूसरी घटना में कौशांबी की है जहां विवाहित महिला के साथ 2 लोगों ने दुष्कर्म किया| दुष्कर्म के बाद महिला के हाथ-पांव बांधकर उसे फेंक दिया|

वहीं तीसरी खबर मऊ की है जहां 7 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया जाता है|

वहीं चौथी घटना कासगंज की है जहां 5 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया गया|

पांचवी घटना गाजीपुर की है जहां किशोरी के साथ दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या कर दी गई|

इस तरह के अपराधों से उत्तर प्रदेश रोज गुजर रहा है| जहां सरकार की तरफ से महिला सुरक्षा पर अभियान तो चलाया जाता है पर उसपर विशेष ध्यान नहीं दिया जा रहा है जिसका परिणाम सामने है की महिला अपराध के ग्राफ में लगातार इजाफा हो रहा है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here