यूपी में मिशन शक्ति का अपराधियों पर कोई लगाम नहीं

यूपी में बढ़ते अपराध ने योगी सरकार की नींद उड़ा दी है हाथरस और बलरामपुर में हुए जघन्य अपराध की घटनाओं ने पूरे समाज को हिला कर रख दिया था। जिसके बाद योगी सरकार ने अपराधियों पर नकेल कसने के लिए ‘मिशन शक्ति’ अभियान की शुरुआत की। प्रदेश सरकार मिशन शक्ति के माध्यम से उत्तर प्रदेश को अपराध मुक्त बनान चाहती है। जबकि यूपी में ‘मिशन शक्ति’ का अपराधियों पर कोई असर नहीं हो रहा है। अपराधी बिना किसी भय के अपराध किए जा रहे हैं।

ताजा मामला इटावा का है जहां शौच के लिए गई युवती को बदमाशों ने अगवा कर लिया और सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी।घटना को लेकर नाराज युवती के परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। परिवार का कहना है युवती(23) के लापता होने की सूचना लवेदी थाने में देने के बावजूद पुलिस ने केवल गुमशुदगी का मुकदमा दर्ज कर खामोश बैठ गई। जिसका परिणाम ये हुआ कि बेटी को अपनी ज़िंदगी से हाथ धोना पड़ा।

दूसरी घटना मिर्जापुर की है जहां पड़ोसी युवक के छेड़छाड़ से परेशान नाबालिग छात्रा ने आत्मदाह कर लिया जिसके बाद इलाज के बाद नाबालिग की मृत्यु हो गई। परिजनों का कहना है कि पड़ोस में रहने वाला युवक छात्रा से आए दिन स्कूल और कोचिंग जाते समय छेड़खानी करता था। जिसकी शिकायत युवक के परिजनों से की गई बावजूद उसके छात्रा को परेशान करता था। छेड़छाड़ से दुखी छात्रा ने मिट्टी का तेल छिड़ककर खुद को आग लगा दिया।

प्रदेश में लगातार अपराध को लेकर विपक्षियों ने भी योगी सरकार पर निशाना साधा। बताया कि प्रदेश में अपराध चरम पर है और योगी सरकार ‘मिशन शक्ति’ की आड़ में अपनी विफलता को छुपाने में लगी है। विपक्ष का ये भी कहना है कि सरकार के ‘मिशन शक्ति’ का दावा केवल कागज और प्रचार तक ही सीमित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here