विस चुनाव में कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री का चेहरा ब्राह्मण समाज से होना चाहिए- प्रमोद कृष्णम

नए कृषि कानून के विरोध में किसानों और सरकार के बीच कोई ठोस निर्णय नहीं हो पाया है| जिसको किसान दिल्ली के बॉर्डर पर डटें हुए हैं| किसानों की मांग है कि सरकार नए कृषि कानून को जल्द से जल्द वापस ले| भाकियू के किसान यूनियन अध्यक्ष राकेश टिकैत का कहना है कि जबतक सरकार तीनों कानून को वापस नहीं लेती है तबतक आन्दोलन जारी रहेगा| वहीं किसानों और सरकार के बीच कई बार की वार्ता के बाद भी कोई हल नहीं निकल पाया है| दूसरी तरफ केंद्र सरकार का कहना है कि कानून को किसी भी हाल में वापस नहीं लिया जाएगा|

वहीं किसानों के समर्थन में खड़े कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम का कहना है कि जब किसानों नए कृषि कानून किसानों को ही नहीं पसंद है तो सरकार जबरदस्ती कानून को लागू क्यों कर रही है? केंद्र सरकार को ये समझना चाहिए कि आन्दोलन करने वाले किसान पाकिस्तान या यूनान के नहीं है वो हिंदुस्तान के किसान हैं|

प्रमोद कृष्णम हस्तिनापुर में भगवान परशुराम की मूर्ती का अनावरण कर लौट रहे थे| उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेस नेता यूसुफ कुरैशी के निवास पर पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि इस वक्त देश के जो हालात हैं वो बेहद खराब है| उन्होंने कहा सरकार कहती कुछ है और करती कुछ| उनके साथ वहां कांग्रेस नेता सलीम खान सतीश शर्मा शहजाद युसूफ के साथ ठाकुर तेजवीर सिंह भी मौजूद रहें|

आचार्य ने कहा सरकार पर से किसानों का भरोसा उठ चुका है इसलिए दिल्ली की सड़कें संकट से गुजर रही हैं| उन्होंने कहा मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि वो केंद्र सरकार को सद्बुद्धि दे| उन्होंने सरकार की कार्यशैली पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जबतक सरकारी मशीनरी जाती और धर्म के आधार पर काम करेगी तबतक जनता का भला नहीं हो सकता|

कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री के चेहरे पर सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री का चेहरा ब्राह्मण समाज से होना चाहिए| उन्होंने बताया की उत्तर प्रदेश में होने वाले विस चुनाव में कांग्रेस अकेले लड़ेगी|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here