कांग्रेस नेता नजरबंद, ‘प्रदेश अध्यक्ष का बयान’, ‘आन्दोलन से भयभीत है योगी सरकार’

कृषि विरोधी तीन काले कानून को लेकर किसान संगठनों ने बीते दिन भारत बंद का आह्वान किया था| जिसको लेकर लगभग पूरे देश में बंदी का महल देखने को मिला| सरकार के इस काले कानून के खिलाफ किसानों के मोर्चे का कई राजनीतिक पार्टियों ने खुलकर समर्थन भी किया था|

भारत बंद के आह्वान में कांग्रेस समेत कई राजनीतिक पार्टियों के नेता व कार्यकर्ताओं को योगी सरकार द्वारा नजरबंद कर दिया गया था| वहीं किसानों के समर्थन में लखनऊ स्थित कांग्रेस कार्यालय से कानून के खिलाफ मशाल मार्च निकाला गया|

कृषि विरोधी कानून को लेकर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि उत्तर प्रदेश के अंदर किसानों के भारत बंद का प्रभाव रहा है| उन्होंने कहा की प्रदेश के कोने-कोने में किसानों के साथ कांग्रेस ने जगह-जगह सभाएं और धरना प्रदर्शन किये हैं|

सरकार पर हमला करते हुए उन्होंने बताया की किसानों के आन्दोलन से भयभीत योगी सरकार कांग्रेस के कई नेताओं और कार्यकर्ताओं को नजरबंद कर दिया| फिर भी सरकार कांग्रेस के लोगों का हौसला कम नहीं कर पाई| उन्होंने कहा की योगी सरकार किसानों के साथ-साथ देश के चुने हुए प्रतिनिधियों की आवाज को दबाना चाहती है|

लल्लू ने बताया की योगी सरकार ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी को भी इलाहाबाद में रोका गया| दूसरी ओर कांग्रेस की विधान मंडल की नेता आराधना मिश्रा को प्रतापगढ़ में उनके आवास पर नजर बंद किया गया|

किसानों के समर्थन में उतरे विधायक मसूद अख्तर को भी गिरफ्तार कर लिया गया था साथ ही गोरखपुर में प्रदेश कांग्रेस के महासचिव विश्व विजय सिंह समेत सैकड़ों कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है|

उन्होंने सरकार की कार्यशैली पर सवाल खड़े करते हुए कहा की कांग्रेस पार्टी किसानों के हक में लड़ी है और हमेशा लड़ती रहेगी|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here