राजधानी में गैंगवार, बदमाशों ने मऊ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख पर चलाई 35 राउंड गोलियां, मौके पर मौत

राजधानी में अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हो चुके हैं कि अब सरेआम अपराध की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं| गोमती नगर के विभूतिखंड स्थित कठौता पुलिस चौकी के सामने बुधवार रात को मऊ के मोहम्मदाबाद गोहान के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई|

अजीत गोमतीनगर विस्तार स्थित राप्ती अपार्टमेंट में रहता था| रात के आठ बजे वह मोहर सिंह के साथ किसी काम से कठौता चौराहे के पास उदय टावर आया था| पहले से ही घाट लगाए 3 बाइक सवार बदमाशों ने दोनों के एसयूवी से उतरते ही ताबड़तोड़ 35 राउंड फायरिंग की| जिसके बाद अजीत लहूलुहान होकर सड़क पर गिर गया| साथ मौजूद मोहर सिंह के पैर में गोली लगी है| मोहर शोर मचाते हुए बदमाशों के पीछे भागा| लेकिन तबतक बदमाश वहां से फरार हो चुके थे| ताबड़तोड़ चली गोलियों के जद में आने से वहां से गुजर रहा फ़ूड डिलीवरी बॉय भी घायल हो गया|

पुलिस ने बताया की अजीत के खिलाफ मऊ व आजमगढ़ में पांच हत्या सहित 19 केस दर्ज हैं| अजीत के खिलाफ पुलिस ने अपनी रिपोर्ट दी थी जिसके आधार पर मऊ जिला प्रशासन ने दिसंबर में उसे जिला बदर कर दिया था| इसके बाद से ही वह गोमती नगर विस्तार के राप्ती अपार्टमेंट में रहता था|

अजीत अपनी बुलेट प्रूफ एसयूवी से चलता था, हमलावरों को इसकी पूरी जानकारी थी| इसलिए घात लगाए बदमाशों ने पहले अजीत के बहार निकलने का इंतज़ार किया| इससे साफ़ है कि हत्या में सटीक मुखबिरी की गई थी| पुलिस के मुताबिक अजीत के साथ 5 लोगों के मौजूद होने की बात कही गई है, जिनकी तलाश की जा रही है|

बता दे अजीत सिंह आजमगढ़ के जीयनपुर विधायक सर्वेश सिंह की हत्या का गवाह था| दरअसल जीयनपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक सर्वेश सिंह की 19 जुलाई 2013 को बदमाशों ने घर में घुसकर दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी थी| इस वारदात का अजीत चश्मदीद गवाह था| इस मामले में ध्रुव कुमार सिंह उर्फ कुंटू सिंह व अखंड सिंह सहित 13 लोगों पर मुकदमा दर्ज हुआ था| पुलिस इस वारदात को विधायक हत्याकांड से जोड़कर देख रही है, जिसकी जांच भी शुरू कर दी गई है| कुंटू जीयनपुर के छपरा गांव का रहने वाला है, अखंड और अजीत फिलहाल जेल में हैं|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here