लखनऊ: गैलरी में सावरकर की तस्वीर पर विधान परिषद में सरगर्मी तेज, सभापति ने दिया कार्यवाही करने का आदेश

लखनऊ में विनायक दामोदर सावरकर की तस्वीर को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है| विधान परिषद की गैलरी में लगी सावरकर की तस्वीर को लेकर कांग्रेस कांग्रेस ने आपत्ति जताई थी| जिसको लेकर  जिसमें उन्होंने कहा था कि सावरकर का चित्र को गैलरी में लगाए जाने को लेकर आपत्तिजनक ठहराया है और स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान बताया है| उन्होंने ये भी कहा कि सावरकर की तस्वीर गैलरी से हटाकर बीजेपी के संसदीय कार्यालय में लगा दिया जाए|

सभापति रमेश यादव ने विधान परिषद के प्रमुख को सावरकर की तस्वीर को लेकर विधान परिषद के प्रमुख सचिव को तथ्यों की जांच कर कार्यवाही के निर्देश दिए है| बीते कुछ दिन पूर्व ही सीएम योगी ने विधान परिषद की गैलरी में सावरकर की तस्वीर का लोकार्पण किया था| गैलरी में सावरकर की तस्वीर को लेकर सीएम योगी ने कहा कि चित्र वीथिका में वीर सावरकर का भी नाम है| उन्होंने कहा कि सावरकर ने एक ही जीवन में दो कारावास की सजा काटी|

सीएम योगी ने सावरकर की तारीफ करते हुए कहा था कि वीर सावरकर को बताया जाता है कि उनसे बड़ा क्रांतिकारी, साहित्यकार, कवि, दार्शनिक नहीं हुआ| इन सब से हमें नई प्रेरणा मिलती है|

वहीं कांग्रेस की तरफ से विरोध करने पर जवाब में बीजेपी एमएलसी विजय बहादुर पाठक ने कहा कि जिस समिति ने गैलरी में सावरकर की तस्वीर पर सहमती जताई थी उसमें दीपक सिंह भी शामिल थे| उस समय आपत्ति नहीं जताई, अब लोकार्पण के समय सियासत किया जा रहा है| विजय बहादुर पाठक ने कहा कि सावरकर प्रेरणा श्रोत हैं| ऐसा व्यक्तित्व रखने वाले पर राजनीत करना उचित नहीं है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here