पंचायत का फैसला, 17 जनवरी से लोनी बॉर्डर बंद कर धरना देंगे खाप चौधरी

कृषि कानून को लेकर सरकार के फैसले से नाराज खाप चौधरी ने 17 जनवरी को लोनी बॉर्डर बंदकर धरना देने की बात कही है| शुक्रवार को खेकड़ा में आयोजित किसानों के पंचायत में ये बात कही है| उधर बडौत में दिल्ली सहारनपुर बॉर्डर पर किसानों का आन्दोलन लगातार जरी है| दिल्ली के सभी बॉर्डर को किसानों ने घेर रखा है, केवल सिंधु बॉर्डर को छोड़कर सभी बॉर्डर से आवागमन जारी है|

किसान संगठनों और सरकार के बीच हुई कई बार की वार्ता के बाद भी कोई निर्णय नहीं निकल पाया है| जिसको लेकर किसान संगठनों ने अब दिल्ली के अंदर जाम करने की बात कर रहे हैं| किसानों का मानना है कि जबतक दिल्ली के अंदर की सड़कों को जाम नहीं करेंगे तबतक सरकार पर कोई असर नहीं होगा|

शुक्रवार को खेकड़ा में धामा खाप चौधरी जितेंद्र धामा की अध्यक्षता में किसानों की बैठक में वक्ताओं का कहना है कि सिंधु बॉर्डर के बंद होने से सारे वहां दिल्ली-शामली राज्यमार्ग से होते हुए लोनी बॉर्डर से दिल्ली जा रहे हैं| किसानों ने अब लोनी बॉर्डर को पूरी तरह से बंद करने की बात कही है|

वक्ताओं ने एक बार फिर से सरकार को चेताते हुए कहा कि जबतक कानून वापसी नहीं तबतक घर वापसी नहीं| किसान संगठन का कहना है कि दिल्ली में 26 जनवरी को होने वाली परेड के पास ही किसानों ने भी परेड निकालने की बात कही है| किसानों का कहना है कि परेड में शामिल होने बागपत से 1000 ट्रेक्टर शामिल होंगे|

सभा की अध्यक्षता करते हुए रामकिशन और संचालक नीरज पंडित ने धरने को और मजबूत बनाने के लिए संगठन को गांव गांव में किसानों से संपर्क करने के लिए कहा गया है| जिससे गांव की भागीदारी को सुनिश्चित किया जा सके|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here