सराफा कारोबारियों से नकली नहीं असली पुलिस ने की थी लूट, आरोपी दारोगा समेत 5 गिरफ्तार

सराफा व्यापारी से बस्ती जिले में तैनात दारोगा व चार सिपाहियों ने महराजगंज में रहने वाले सर्राफा व्यापारी व उनके मुनीम के साथ लूट की घटना को अंजाम दिया था| गुरुवार की सुबह गोरखपुर पुलिस ने सीसीटीवी और सर्विलांस की मदद से दारोगा समेत पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया| साथ ही आरोपियों के पास से घटना में इस्तेमाल हुई बुलेरो के साथ लूट के नगदी व गहने बरामद हुए हैं| घटना में शामिल एक सिपाही की खोज चल रही है| सभी आरोपित के साथ पुलिस पूछताछ कर रही है| वारदात में मुखबिरी करने वाले 2 आरोपियों की भी गिरफ़्तारी की गई है|

महाराजगंज के रहने वाले तामेश्वर वर्मा के भाई दीपक व दूसरे कारोबारी गौतम वर्मा के कर्मचारी रामू वर्मा बुधवार को गहनों की खरीदारी करने बस से लखनऊ जा रहे थे| दीपक के पास करीब 11.10 लाख की नगदी व पांच लाख रुपए का सोना व रामू के पास 6 लाख रुपए की नगदी व आठ लाख रुपए का सोना(जेवर गलाकर तैयार किया गया सोना) था| दोनों एक ही बैग में नगदी और सोना लेकर जा रहे थे|

गोरखपुर के रेलवे बस स्टेशन के पास वर्दीधारी दारोगा व सिपाहियों ने उन्हें पकड़ लिए| दोनों पर तस्करी का आरोप लगते हुए पूछताछ के बहाने नौसड़ ले गए| जहां पिटाई करने के बाद गहने व रुपयों से भरा बैग छीन ले गए|

अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पुलिस के साथ क्राइम ब्रांच और नौशाद चौकी प्रभारी ने खोज शुरू की| रेलवे बस स्टैंड, कार्मल रोड, नौसड़ व सहजनवा में लगे सीसीटीवी कैमरे की जाँच में मिले फुटेज के आधार पर पुलिस की टीम बस्ती पहुंची| सर्विलांस की मदद से पुरानी बस्ती पहुंच कर वारदात में इस्तेमाल बोलेरो के साथ ही वारदात को अंजाम देने वाले दारोगा व सिपाहियों को पकड़ लिया गया|

महाराजगंज के निचलौल के दो सराफा व्यापारियों के साथ गोरखपुर के रेलवे बस स्टैंड के पास लूट हो गई थी| पुलिस ने गोरखपुर में हुई नगदी व जेवर के लूट के मामले में निचनौला से पुलिस ने 2 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है| लूट के शिकार हुए दोनों कारोबारियों की सटीक लोकेशन की सूचना देने का आरोप लगा है| गोरखपुर में लूट का खुलासा होने के के बाद दोनों आरोपियों को पुलिस उठाकर अपने साथ ले गई|

लूट की सूचना मिलने के बाद दोनों कारोबारियों का परिवार सकते में आ गए थे| गुरुवार को पुलिस टीम द्वारा गोरखपुर में लूट का खुलासा करने के बाद दोनों कारोबारियों के परिजनों ने रहत की सांस ली| दीपक के पिता राजनारायण ने पुलिस के हौसले की प्रशंसा की| उन्होंने कहा की उनके बेटे के साथ हुई घटना से पूरा परिवार सदमें में था| लेकिन लूट का खुलासा होने के बाद पूरे परिवार ने रहत की सांस ली|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here